November 28, 2011

बाबुल



बाबुल तेरी बिटिया यही आस लगाए
अबके बरस बाबुल सावन में लीजो बुलाये
अम्मा के हाथों की रोटियां, गरासी दीजो खिलाये
मुंडेर की नन्ही खटिया पर थपकी दीजो सुलाए
बाबुल बरसों बीत गए तेरी पेंग झुलाए
फिर से मेरा बचपन मुझको दीजो लौटाए
अबकी बरस बाबुल सावन में लीजो बुलाये

28 comments:

  1. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  2. very nice shephali......every girl/women will cry after reading this...keep writing dear...god bless u.

    ReplyDelete
  3. क्या कहूं, बहुत सुंदर
    वाह..

    ReplyDelete
  4. बहुत बहुत धन्यवाद

    ReplyDelete
  5. Dis poem is dedicated to all Female
    Friends of mine n Their Loving
    Fathers..h ope u all lyk it
    DaD-DaughTer Love:
    (Bitiya ka BaaBuL)-:
    ""Bitiyaa ka BaaBuL hai Use Sabse
    pyara..
    BaaBuaL mein Dikhta hai use Sansaar
    Saara..
    Ungliyaan pakad kar jisnE chaLna
    sikhaya..
    Godi mein Lori ga kar jisnE SuLaya. .
    Pyari si Thapki sE jisNe Samjhaya..
    PhooLon k AAngaN meiN jisNe
    KhiLaya..
    Kabhi Unhone Tumhein Maa ki Daant
    se Bachaya..
    Kabhi KhuD rOye..
    Kabhi Tum ko Hasaya..
    Sabne jaB saath Choda tO unhone
    Apnaya..
    Tumhein Gale se Lagakar..
    Tumhara Akelapan Bhagaya..
    Jeevan ki Dhoop mein wo Bane
    Tumhara Saaya..
    Bhagwaan k Roop mein hai Tumne
    unhe paaya..
    Duniya mein BaaBuL se na koi hai..
    na koi hoga Nyara..
    kehta hai Ye Dost
    Tatvagya Tumhara..! .."

    ReplyDelete
  6. apne din aa gye beta isliye ye sab likha ja raha hai......gud one :)

    ReplyDelete
  7. शेफाली जी हमें तो यह गीत याद आ रहा हैं अबकी बरस भइया ......

    ReplyDelete
  8. बहुत छोटी लेकिन हृदयस्पर्शी और भावुक !
    समय तो आ ही रहा है......और सोचे और लिखे...बधाई!

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर प्रस्तुति । मेरे नए पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद। ।

    ReplyDelete
  10. शेफाली जी बाबुल कविता पढ़ी ,बहुत सुंदर आत्मीय और स्वभाविक अहसास | बहुत सुंदर बधाई |

    ReplyDelete
  11. जी हाँ शेफाली जी . बाबुल का घर बेटी मरते दम तक याद रखती है |
    बहुत ही सुन्दर ढंग से भावनाओं को मधुर शब्दों में उकेरने की कला निश्चय ही अद्भुद है |
    बहुत बहुत आभार|

    ReplyDelete
  12. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल आज 15 -12 - 2011 को यहाँ भी है

    ...नयी पुरानी हलचल में आज... सपनों से है प्यार मुझे . .

    ReplyDelete
  13. बहुत बहुत शुक्रिया दीदी

    ReplyDelete
  14. aj pehli bar apka blog padne ka avsar mila, wakai behetereen lekhni hai apki

    ReplyDelete
  15. रानी बेटी राज करेगी.

    ReplyDelete
  16. बहुत सुंदर प्रस्तुति । मेरे नए पोस्ट " हो जाते हैं क्यूं आद्र नयन पर ": पर आपका बेसब्री से इंतजार रहेगा । धन्यवाद। .

    ReplyDelete
  17. बहुत बढ़िया
    विवाह उपरांत तो यही स्थिति बन जाती है...

    ReplyDelete
  18. बहुत सुन्दर और प्यारे भाव ...

    ReplyDelete

आपके अनमोल वक़्त के लिए धन्यवाद्
आशा है की आप यूँ ही आपना कीमती वक़्त देते रहेंगे