June 26, 2014



साँसों की टूटती लड़ियाँ
रिश्तों की चटकती कड़ियाँ
संभालोगे ना तो बिखर जाएँगी
रेट की तरह हाथों से फिसल जाएंगी
सातों आसमान सा विशाल लगता है
रिश्तों का हर मंज़र सवाल लगता है
ज़िन्दगी के आँचल तले
पलते रहेंगे ये
हमारे बनाये साँचें में
ढलते रहेंगे ये
सारे सवालों के जवाब ढूँढना
कानों में गूंजती आवाज़ ढूँढना
एक साथी की तलाश हो गर तो
मुझे तुम अपने आस पास ढूँढना

13 comments:

  1. good to see you shefali
    welcome back.....

    बहुत सुन्दर रचना...
    अनु

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया अनु जी

      Delete
  2. अनुभूतियों और भावनाओं का सुंदर समवेश इस खूबसूरत प्रस्तुति में

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया संजय जी

      Delete
  3. उम्दा रचना और बेहतरीन प्रस्तुति के लिए आपको बहुत बहुत बधाई...
    नयी पोस्ट@दर्द दिलों के
    नयी पोस्ट@बड़ी दूर से आये हैं

    ReplyDelete
  4. वाह..बहुत भावपूर्ण रचना...

    ReplyDelete
  5. Replies
    1. शुक्रिया मोनिका जी

      Delete
  6. खुबसूरत अभिव्यक्ति ..

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया अमृता जी

      Delete

आपके अनमोल वक़्त के लिए धन्यवाद्
आशा है की आप यूँ ही आपना कीमती वक़्त देते रहेंगे