July 04, 2014

बागबान





                                   तेरी खुशबू से महकता है मन मेरा आज भी
                                      तू ना जाने कब मेरा बागबान बन बैठा

4 comments:

  1. आता है एक दिन सभी का ..
    बहुत सुन्दर ..

    ReplyDelete

आपके अनमोल वक़्त के लिए धन्यवाद्
आशा है की आप यूँ ही आपना कीमती वक़्त देते रहेंगे